Tuesday , September 27 2022

कासगंज हिंसा: DM ने कांग्रेस को नहीं दी जाने की इजाजत, कानून-व्यवस्था का दिया हवाला

नई दिल्लीः कासगंज में हिंसा प्रभावित इलाके में कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधिमंडल को जाने की इजाजत नहीं मिली है. कासगंज के डीएम ने कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए इलाके में नेताओं के आने पर रोक लगाई है. उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी के प्रमुख राज बब्बर के नेतृत्व में आज कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल हिंसा प्रभावित इलाके में दौरे के लिए जाने वाला था. खबर है कि जिला प्रशासन की मंजूरी ना मिलने के बावजूद भी कासगंज जाने पर कांग्रेस पार्टी अड़ी हुई है. आपको बता दें कि कासगंज में अभी भी हालात सामान्य नहीं है. अभी भी कई इलाकों में धारा 144 लगी हुई है. इस मामले में राज्य सरकार द्वारा गठित 4 सदस्यों की स्पेशल इनवेस्टिगेशन टीम (SIT) इस हिंसा की जांच कर रही है.

संवेदनशीलता के लिहाज से कई जगहों पर ड्रोन कैमरे से नजर रखी जा रही है.

आपको बता दें कि यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर ने कासगंज हिंसा पर 29 जनवरी को किए अपने ट्वीट में लिखा था, ‘पूरा प्रदेश भावनात्मक रूप से चन्दन के परिवार के साथ है. मां-पिता पर क्या बीत रही होगी, इसकी कल्पना मुश्किल है, अब तो कासगंज में पुलिस की कई कंपनियां हैं. अधिकारी-मंत्री बैठकें कर रहे हैं. लेकिन अगर यूपी में प्रशासन मुस्तैद होता तो चन्दन आज हम सब के बीच मौजूद होते’

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार शाम जारी एक बयान में कहा कि कासगंज हिंसा प्रकरण में अब तक सात मामले दर्ज किये गये हैं और 33 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है. शान्ति व्यवस्था बनाये रखने हेतु संबद्ध धारा के तहत 81 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

अब तक कुल 114 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. साथ ही एक डीबीबीएल बन्दूक, दो कारतूस, एक एसबीबीएल देशी व चार कारतूस तथा आठ खोखा कारतूस बरामद किये गये हैं. चिन्हित किये गये व्यक्तियों तथा वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु टीमें गठित कर निरन्तर दबिशें दी जा रही है.

पटरी पर लौटा शहर
पुलिस के बयान में कहा गया कि वर्तमान में जनसामान्य का आवागमन एवं दैनिक क्रिया कलाप सामान्य तौर पर चल रहे हैं. बाजार में दुकानें खुली हैं. जोन सेक्टर योजना के अनुसार निरन्तर गश्त पिकेट जारी है. पीस कमेटी की बैठकें आयोजित कर शान्ति एवं सौहार्द पूर्वक वातावरण बनाये रखने हेतु लगातार प्रयास जारी हैं. कानून व्यवस्था की स्थिति सामान्य है.

विधायक ने सीएम योगी को लिखी चिट्ठी
इस बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे एक पत्र में कासगंज के विधायक देवेन्द्र सिंह राजपूत :भाजपा: ने चंदन गुप्ता को शहीद का दर्जा देने की मांग की है . उन्होंने पत्र में कहा कि चंदन को मारने वालों पर देशद्रोह का मुकदमा चलना चाहिए और उन्हें कडा दंड देना चाहिए. मृतक के परिवार में से दो लोगों को नौकरी देनी चाहिए. एक चौराहे का नाम चंदन के नाम पर रखा जाना चाहिए. वहां उसकी मूर्ति स्थापित होनी चाहिए. इस बीच जिला प्रशासन की ओर से बनी शांति समि​ति ने मंगलवार शाम बैठक कर स्थिति की समीक्षा की. समिति ने समाज के हर वर्ग से सद्भाव बनाये रखने की अपील की.

Loading...