Tuesday , September 27 2022

सेंचुरियन टेस्‍ट में टीम इंडिया पर हार का खतरा मंडराया, भारत को पुजारा का सहारा

अपना पहला टेस्ट हार चुकी भारतीय टीम सीरीज में बने रहने के लिए सेंचुरियन टेस्ट में भी संघर्ष करती नज़र आ रही है. सेंचुरियन टेस्ट के चौथे दिन 287 रन का पीछा करते हुए भारतीय टीम ने अपने तीन महत्वपूर्ण विकेट मात्र 35 रन पर गँवा दिए. पहली पारी के शतकधारी और भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली भी साउथ अफ्रीका की रणनीति का शिकार बने. उन्होंने मात्र 5 रन बनाये. 

इससे पहले भारत की सलामी बल्लेबाज मुरली विजय और लोकेश राहुल पारी की शुरुआत करने क्रीज़ पर उतरे. लेकिन अफ्रीका की पेस अटैक की सामने भारतीय बल्लेबाज़ असहाय नज़र आ रहे थे.  कैगिसो रबादा और लुंगी रिड़ी की उछाल और मूवमेंट लेती गेंदों की सामने वे ज्यादा देर नहीं टिक सके और मुरली विजय 11 और लोकेश राहुल 4 रन बनाकर पवेलियन लौट गए. 

टेस्ट के अंतिम दिन भारत को जीत के लिए 252 रन की जरुरत है और भारत के मिस्टर डिपेंडेबल माने जाने वाले चेतेश्वर पुजारा 11 और वापसी कर रहे विकेट कीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल 5 रन बनाकर क्रीज़ पर डटे हुए है. भारत को टेस्ट ड्रा करवाने के लिए पुरे दिन बल्लेबाज़ी करना है और भारत के 7  विकेट शेष है. भारत को अब पुजारा का ही सहारा है. अगर वे एक छोर संभाले रखते है और पार्थिव की साथ एक बड़ी साझेदारी करते है तो भारत टेस्ट में वापसी कर सकता है. लेकिन अफ्रीका की धारदार गेंदबाज़ी को देखकर इसके आसार कुछ कम ही नज़र आ रहे है

इससे पहले चौथे दिन 90 रन पर दो विकेट से आगे खेलने उत्तरी अफ़्रीकी टीम ने ए.बी. डीविलियर्स (80) और डीन एल्गर की अर्ध शतकीय परीयों की मदद से 258  रन बनाये. फाफ डु प्लेसिस ने 48 और फिलैंडर ने 26 का योगदान दिया. भारत की ओर से मो. शमी ने सर्वाधिक 4  विकेट लिए. जबकि जसप्रीत बुमराह को 3 और इशांत शर्मा को 2 विकेट मिले. पहली पारी में 4 विकेट लेने वाले भारतीय स्पिनर रविचंद्रन आश्विन को 29 ओवर डालने के बावजूद मात्र 1 विकेट ले सके. 

अगर पुराने रिकॉर्ड की बात करे तो सेंचुरियन में चौथी पारी में हासिल किया गया सबसे बड़े लक्ष्य का रिकॉर्ड इंग्लैंड के नाम है. जो इंग्लैंड ने अफ्रीका के ही खिलाफ बनाया था. इंग्लैंड ने वर्ष 2000 में 251 रन के लक्ष्य को 8 विकेट खोकर प्राप्त किया था.    

Loading...