Wednesday , September 28 2022

सर्दियों में खून गाढ़ा होने से बढता है ब्रेन स्ट्रोक का खतरा

देश में कई स्थानों पर कड़ाके की ठंड पड़ रही है। वहां पानी को छूने से भी डर लगता है। ऐसी सर्दी में पानी भी नहीं पिया जाता। जबकि शरीर में पानी की जरुरत सर्दियों और गर्मियों में बराबर होती है। सर्दियों में कम पानी पीने से ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है। न्यूरो सर्जन और स्ट्रोक विशेषज्ञों की मानें तो कड़ाके की ठंड में ब्रेन स्ट्रोक के मरीजों की संख्या बढ़ जाती है।

सर्दियों में खून गाढ़ा होने से नलिकाएं संकरी हो जाती है जिससे प्रेशर बढ़ता है। इससे खून की धमनियों में क्लॉटिंग होने से स्ट्रोक का खतरा अधिक होता है। इसलिए सर्दियों के मौसम में ब्लड प्रेशर का पूरा ध्यान रखना चाहिए। शरीर में कमजोरी आना, आंखों की क्षमता प्रभावित होना, अचानक सिरदर्द होना जैसे ब्रेन स्ट्रोक के लक्षण है।

इससे बचने के लिए दिन में बार-बार पानी पीना चाहिए। सर्दी में खुद की सुरक्षा करें और एल्कोहल और धूम्रपान न करें। डायबिटीज के मरीज, ब्लड प्रेशर के मरीज, मोटापे के शिकार, हाई कॉलेस्ट्रॉल लेवल वाले लोगों को इसका अधिक ध्यान रखना चाहिए। साथ ही खानपान का भी विशेष ध्यान रखें।

फाइबरयुक्त भजन करें। ब्रेन स्ट्रोक से पीड़ित मरीज के भोजन में नमक, ट्रांस फैट की मात्रा कम होनी चाहिए। अदरक खून को पतला करता है इसलिए सर्दी में अदरक का सेवन करें। गाजर, जामुन, टामाटर, हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं।

Loading...