Friday , February 28 2020

बिजनेस

हांगकांग और दुबई में नीरव मोदी ने पीएनबी से लिया कर्ज!

हीरा कारोबारी नीरव मोदी की पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ की गई धोखाधड़ी में रकम का आंकड़ा और बढ़ सकता है। फिलहाल यह रकम 13,500 करोड़ रुपये की है जो कर्ज लेकर लौटाई नहीं गई। यह मुंबई की ब्रैडी हाउस शाखा से संबंधित है। लेकिन ताजा जानकारी सामने आई है कि नीरव की फर्मों ने पीएनबी की हांगकांग और दुबई की शाखाओं से भी कर्ज और क्रेडिट सुविधा ली। गड़बड़ी की आशंका से वहां जांच जारी है। पीएनबी ने यह जानकारी जांच एजेंसियों को दी है। बैंक की रिपोर्ट के अनुसार नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार डायमंड लिमिटेड, हांगकांग और फायरस्टार डायमंड एफजेडई, दुबई ने वहां की पीएनबी शाखाओं से क्रेडिट सुविधा प्राप्त कर रखी थी। भारत में हुए घोटाले का जैसे ही पता चला दोनों शाखाओं ने कंपनी से क्रेडिट सुविधा वापस ले ली। दोनों बैंक शाखाओं से नीरव मोदी की कंपनियों का कोई घोटाला फिलहाल सामने नहीं आया है। लेकिन बैंक ने अभी कंपनी को क्लीन चिट भी नहीं दी है। बैंक की अंदरूनी जांच जारी है। नीरव मोदी समूह की अमेरिका स्थित एक अन्य कंपनी फायरस्टार डायमंड इंक ने न्यूयॉर्क की कोर्ट में दीवालिया घोषित होने की अर्जी लगाई है। फरवरी में लगाई गई यह अर्जी कोर्ट ने स्वीकृत कर ली तो अमेरिका स्थित नीरव की कंपनी उसकी देनदारियों से छुटकारा पा जाएगी। वैसे कोर्ट में अपना पक्ष रखने के लिए पीएनबी भी पहुंच गई है। उसने आशंका जताई है कि भारत से धोखाधड़ी करके जुटाया गया धन अमेरिका की कंपनी में भी लगाया गया है। पीएनबी की 162 पेज की रिपोर्ट में बताया गया है कि मुंबई की ब्रैडी हाउस शाखा के कर्मचारियों के एक समूह ने हैसियत का फर्जी पत्र (एलओयू) जारी करके वर्षों तक नीरव और उसके मामा मेहुल चोकसी की कंपनियों की मदद की। इन एलओयू के जरिये दोनों ने विदेश में अरबों रुपये का उधार लेन-देन और कर्ज लिया।

हीरा कारोबारी नीरव मोदी की पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के साथ की गई धोखाधड़ी में रकम का आंकड़ा और बढ़ सकता है। फिलहाल यह रकम 13,500 करोड़ रुपये की है जो कर्ज लेकर लौटाई नहीं गई। यह मुंबई की ब्रैडी हाउस शाखा से संबंधित है। लेकिन ताजा जानकारी सामने आई …

Read More »

शेयर बाजार में थम नहीं रही गिरावट, सेंसेक्स निफ्टी दोनों सुस्त

भारतीय शेयर बाजार में गिरावट का दौर आज भी जारी है। सुस्त होकर खुला प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स खबर लिखे जाने तक 19 अंक की मामूली बढ़त के साथ 35242 के स्तर पर कारोबार कर रहा था वहीं निफ्टी 6 अंक गिरकर 10664 के स्तर पर कारोबार कर रहा था। सबसे ज्यादा बिकवाली एसबीआईएन और कोल इंडिया के शेयर्स में है। एसबीआईएन का काउंटर 1.57 फीसद की गिरावट के साथ 150.55 के स्तर पर और कोल इंडिया 1.97 फीसद की गिरावट के साथ 261.20 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर मिडकैप इंडेक्स 0.70 फीसद और स्मॉलकैप 0.83 फीसद की कमजोरी देखने को मिल रही है। PSU बैंक के शेयर्स में बिकवाली सेक्टोरल इंडेक्स की बात करें तो आईटी को छोड़ सभी सूचकांक लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं। बैंक (0.18 फीसद), ऑटो (0.33 फीसद), फाइनेंशियल सर्विस (0.17 फीसद), एफएमसीजी (0.07 फीसद), मेटल (0.25 फीसद), फा्र्मा (0.57 फीसद), पीएसयू बैंक (1.32 फीसद), प्राइवेट बैंक (0.15 फीसद) और रियल्टी में (1.14 फीसद) की गिरावट है। हिंदपेट्रो टॉप लूजर निफ्टी में शुमार शेयर्स की बात करें तो 16 हरे निशान और 34 गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। सबसे ज्यादा तेजी इंफोसिस, जील, एमएंडएम, एचसीएलटेक और कोटक बैंक के शेयर्स में है। वहीं, हिंदपेट्रो, बीपीसीएल, ग्रासिम, गेल और आईओसी के शेयर्स में गिरावट है।

भारतीय शेयर बाजार में गिरावट का दौर आज भी जारी है। सुस्त होकर खुला प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स खबर लिखे जाने तक 19 अंक की मामूली बढ़त के साथ 35242 के स्तर पर कारोबार कर रहा था वहीं निफ्टी 6 अंक गिरकर 10664 के स्तर पर कारोबार कर रहा था। सबसे …

Read More »

मोदी सरकार के दौर में डॉलर के मुकाबले रुपया इतिहास के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा

भारत की अर्थव्यवस्था के लिए रुपया बुरी खबर लेकर आया है. डॉलर के मुकाबले रुपया 49 पैसे लुढ़ककर अब तक के सबसे निचले स्तर 69.10 रुपये पर आ गया है. रुपये में आई गिरावट से शेयर बाजार हलकान है. आज शुरुआती कारोबार में बंबई शेयर बाजार का इंडेक्स सेंसेक्स 90 अंक यानी 0.25 प्रतिशत गिरकर 35,126.85 अंक पर आ गया. वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती दौर में 31.30 अंक यानी 0.29 प्रतिशत गिरकर 10,640.10 अंक पर आ गया. ब्रोकरों ने कहा कि कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के बीच रुपये की गिरावट ने बाजार धारणा को प्रभावित किया. इसके अलावा, अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड वार का असर भी बाजार पर दिखा. कांग्रेस बोली- मोदी की उम्र को पार कर चुका है रुपया डॉलर के मुकाबले रुपये में आई ऐतिहासिक कमी पर कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पुराने बयानों की याद दिलाई है. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि एक डॉलर के मुकाबले रुपया 68 पर पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उम्र को पार कर चुका है. क्या आप वादा अनुसार एक डॉलर के मुकाबले रुपया को 45 रुपये पर लाएंगे? Randeep Singh Surjewala ✔ @rssurjewala Dear Modiji, You mocked Dr. Manmohan Singh comparing his age to the value of depreciating ₹, which never really fructified. Now, ₹ is at a historic low of ₹68.61 to 1$, surpassing your age. When will it be restored to ₹45 to 1$ as you promised?https://www.google.co.in/amp/s/indianexpress.com/article/news-archive/web/rupee-falls-to-record-low-beyond-52-dollar/lite/ … 8:16 AM - Jun 28, 2018 Rupee falls to record low beyond 52/dollar The Indian rupee fell beyond 52 per dollar to a new record low in afternoon trading on Tuesday. indianexpress.com 1,245 738 people are talking about this Twitter Ads info and privacy दरअसल, सत्ता में आने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रुपयों की गिरावट को लेकर मनमोहन सिंह पर निशाना साधा था. उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा था कि जिस तरह रुपया कमजोर हो रहा है लगता है, डॉलर मनमोहन सिंह की उम्र को पार कर जाएगा. मोदी ने कहा था, ''रुपये की कीमत जिस तेजी से गिर रही है. कभी-कभी तो लगता है कि दिल्ली सरकार और रुपये की बीच में प्रतिस्पर्धा चल रहा है. किसकी आबरू तेजी से गिरती जा रही है इसका प्रतिस्पर्धा चल रहा है. देश जब आजाद हुआ तब एक डॉलर एक रुपये के बराबर था. अर्थशास्त्री प्रधानमंत्री की दौर में 60 रुपये पर पहुंच गया.'' अब चार साल बाद एक बार फिर डॉलर के मुकाबले रुपये में भारी गिरावट देखी जा रही है. अब कांग्रेस विपक्ष में है और मोदी सत्ता में हैं. अब सबसे बड़ी गरीब आबादी वाला देश नहीं रहा भारत: रिपोर्ट क्या रहा रुपया का हाल? अंतर बैंकिंग मुद्रा बाजार (फॉरेक्स मार्केट) में रुपया आज डॉलर के मुकाबले 68.87 रुपये प्रति डॉलर पर खुला और शुरुआती कारोबार में 49 पैसे गिरकर 69.10 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया. रुपया कल के कारोबारी दिन में डॉलर के मुकाबले गिरकर 68.61 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था. फॉरेक्स कारोबारियों ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में उछाल और रुपये में गिरावट से भारत दोहरी मार झेल रहा है. अमेरिका ने कल भारत, चीन सहित सभी सहयोगी देशों से ईरान से कच्चे तेल का आयात चार नवंबर तक बंद करने को कहा था, जिसके बाद कच्चे तेल की कीमतों में उछाल आया. इसके अलावा लीबिया और कनाडा में आपूर्ति संबंधी दिक्कतों से भी कीमतों पर दबाव रहा.

भारत की अर्थव्यवस्था के लिए रुपया बुरी खबर लेकर आया है. डॉलर के मुकाबले रुपया 49 पैसे लुढ़ककर अब तक के सबसे निचले स्तर 69.10 रुपये पर आ गया है. रुपये में आई गिरावट से शेयर बाजार हलकान है. आज शुरुआती कारोबार में बंबई शेयर बाजार का इंडेक्स सेंसेक्स 90 …

Read More »

सेंसेक्स 272 अंक गिरकर 35217 पर बंद, पीएसयू शेयर्स पर हावी रही बिकवाली

भारतीय शेयर बाजार भारी गिरावट के साथ कारोबार कर बंद हुआ है। बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का इंडेक्स सेंसेक्स करीब 272 अंक की गिरावट के साथ 35217 के स्तर पर और निफ्टी 98 अंक की कमजोरी के साथ 10671 के स्तर पर कारोबार कर बंद हुआ है। कारोबार के दौरान सबसे …

Read More »

GST के तहत नहीं आ सकता पेट्रोल, आया तो सरकार को होगा भारी नुकसान

पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के तहत लाने को लेकर केंद्र सरकार लगातार अपना समर्थन जाहिर कर रही है. हालांकि पेट्रोलियम उत्पादों को जल्द जीएसटी के तहत लाने पर कोई फैसला होना मुश्किल लग रहा है. लेकिन नीति आयेाग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार की मानें तो यह काम मुश्क‍िल ही नहीं, बल्क‍ि असंभव है. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार का कहना है, ''तेल को जीएसटी के दायरे में नहीं लाया जा सकता है. क्योंकि पेट्रोल पर केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा लगाया गया कर इस समय तकरीबन 90 फीसदी है.'' राजीव कुमार ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, ''मुझे नहीं लगता कोई भी राज्य इतने बड़े स्तर पर अपने कर में कटौती के लिए तैयार होगा. क्योंकि जीएसटी के तहत अध‍िकमत 28 फीसदी जीएसटी लग सकता है.'' उनके मुताबिक इसके लिए जीएसटी की एक नई पट्टी बनानी होगी, जिसके लिए लंबी कवायद की जरूरत होगी. राजीव ने अन्य सभी चीजों को नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली के तहत लाने का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि जो लोग पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की बात कर रहे हैं, उन्होंने अभी इस तरह से विचार नहीं किया है. उन्होंने कहा कि ऐसा करने का बेहतर तरीका यही हो सकता है कि पहले पेट्रोलियम उत्पादों पर कर घटाया जाए. यह मैं कई बार सार्वजनिक तौर पर बोल चुका हूं. राजीव ने कहा कि इसका राष्ट्रीयकरण करने की जरूरत है. राज्यों को पेट्रोल और डीजल पर लगने वाला कर घटाना चाहिए. राजीव के मुताबिक केंद्र सरकार को तेल पर कर से 2.5 लाख करोड़ रुपये का राजस्व मिलता है. इससे राज्य सरकारों को भी तकरीबन दो लाख करोड़ रुपये की आय होती है. उन्होंने इस पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसकी भरपाई कहां से करेंगे. उन्होंने इसके लिए कहा कि करों में धीरे-धीरे कटौती से ही समाधान निकलेगा. क्योंकि इससे अर्थव्यवस्था पर बोझ घटेगा. कुमार के मुताबिक तेल की ज्यादा कीमतें अर्थव्यवस्था पर एक कर के समान होती हैं. इसलिए अगर तेल की कीमतें घटती हैं, तो इससे आर्थ‍िक गतिविधियों में भी सुधार होगा. बता दें कि वित्त मंत्री अरुण जेटली से लेकर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान समय-समय पर पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के तहत लाने के लिए अपना समर्थन जाहिर कर चुके हैं. उनके मुताबिक इससे पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से राहत मिलेगी.

पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के तहत लाने को लेकर केंद्र सरकार लगातार अपना समर्थन जाहिर कर रही है. हालांकि पेट्रोलियम उत्पादों को जल्द जीएसटी के तहत लाने पर कोई फैसला होना मुश्किल लग रहा है. लेकिन नीति आयेाग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार की मानें तो यह काम मुश्क‍िल ही …

Read More »

वीडियोकॉन लोन विवाद: चंदा कोचर पर सेबी लगा सकता है 1 करोड़ का जुर्माना

वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने के मामले में हितों के टकराव का आरोप झेल रहीं आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर फंसती नजर आ रही हैं. मार्केट रेग्युलेटर सेबी ने अपनी प्रथम दृष्टया जांच में पाया है कि इस मामले में चंदा कोचर ने नियमों का उल्लंघन किया है. ऐसे में सेबी चंदा कोचर पर 1 करोड़ रुपये का जुर्माना लगा सकता है. वहीं, आईसीआईसीआई बैंक पर 25 करोड़ रुपये की गाज गिर सकती है. सेबी ने अपनी प्रथम दृष्टया जांच में पाया है कि चंदा कोचर ने अपने पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन ग्रुप के बीच हुई डील की जानकारी न देकर नियमों का उल्लंघन किया है. ऐसे में सेबी उनके खिलाफ कार्यवाही शुरू करने का समर्थन कर सकता है. एक वरिष्ठ अध‍िकारी ने बताया कि सेबी जल्द आईसीआईसीआई बैंक और चंदा कोचर के ख‍िलाफ कार्यवाही को लेकर कोई फैसला ले सकता है. इसके लिए सेबी कारण बताओ नोटिस के जवाब का इंतजार कर रहा है. माना जा रहा है कि जैसे ही बैंक की तरफ से जवाब आ जाएगा, कार्यवाही शुरू की जा सकती है. आईसीआईसीआई बैंक के प्रवक्ता ने बताया कि बैंक और उनके एमडी को कारण बताओ नोटिस मिला है. इसमें उनसे पूछा गया है कि आख‍िर इस मामले में बैंक के ख‍िलाफ सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट्स (रेग्युलेशन) रूल्स के तहत कार्यवाही क्यों न की जाए? प्रवक्ता ने बताया कि जल्द ही इस नोटिस का जवाब दिया जाएगा. बता दें कि चंदा कोचर पर वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने के मामले में अनियम‍ितता बरतने का आरोप है. इस मामले में पहले भी सेबी उन्हें नोटिस भेज चुका है. आरोप है कि चंदा कोचर ने वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने के दौरान गड़बड़ी की और अनैतिक तरीके से निजी लाभ लिया.

वीडियोकॉन ग्रुप को लोन देने के मामले में हितों के टकराव का आरोप झेल रहीं आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोचर फंसती नजर आ रही हैं. मार्केट रेग्युलेटर सेबी ने अपनी प्रथम दृष्टया जांच में पाया है कि इस मामले में चंदा कोचर ने नियमों का उल्लंघन किया है. ऐसे …

Read More »

विप्रो के CEO की सैलरी में 35 फीसदी का इजाफा, सालाना 18 करोड़ का पैकेज

विप्रो के सीईओ आबिद अली नीमचवाला के सैलरी पैकज में करीब 35 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. वित्त वर्ष 2017-18 में उन्हें 18.23 करोड़ रुपये का पैकेज मिला है. कंपनी की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक नीमचवाला को 6.29 करोड़ रुपये ग्रॉस सैलरी, 1.70 करोड़ रुपये का वैरिएबल पे, 10.2 करोड़ रुपये के अन्य भत्ते, सुविधाएं मिलाकर कुल 18.23 करोड़ रुपये का पैकेज मिला है. उन्हें वेतन अमेरिकी डॉलर में मिलता है. CSO की सैलरी में 250 फीसदी का इजाफा समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, इस दौरान विप्रो के चीफ स्ट्रेटजी ऑफिसर (CSO), रिशद ए. प्रेमजी के वेतन में 250 फीसदी से ज्यादा का इजाफा हुआ है और उन्हें वित्त वर्ष के दौरान 5.8 करोड़ रुपये की सैलरी दी गई. हालांकि, इस दौरान कंपनी के कार्यकारी चेयरमैन एवं एमडी अजीम प्रेमजी को महज 87 लाख रुपये का सालाना वेतन मिला और उनके वेतन में 10.13 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. सालाना रिपोर्ट में कहा गया है, 'सीईओ और एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर के वेतन की गणना एक्युअरल आधार पर की जाती है और इसमें उन्हें मिले एडीएस रेस्ट्रिक्टेड स्टॉक यूनिट (RSU) से मिली रकम भी शामिल होती है.' रशीद प्रेमजी को 93.33 लाख रुपये की ग्रॉस सैलरी, 53.52 लाख रुपये के भत्ते और 4.13 करोड़ रुपये के विभिन्न कमीशन , इंसेन्टिव, वैरिएबल पे दिए गए हैं. इसी प्रकार विप्रो के मुख्य वित्त अधि‍कारी (सीएफओ) जतिन दलाल का पैकेज 2.42 फीसदी बढ़ाकर 4.65 करोड़ रुपये सालाना का कर दिया गया है.

विप्रो के सीईओ आबिद अली नीमचवाला के सैलरी पैकज में करीब 35 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. वित्त वर्ष 2017-18 में उन्हें 18.23 करोड़ रुपये का पैकेज मिला है. कंपनी की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक नीमचवाला को 6.29 करोड़ रुपये ग्रॉस सैलरी, 1.70 करोड़ रुपये का वैरिएबल पे, 10.2 करोड़ …

Read More »

वादों पर खरा उतरने में फेल हुई GST,अभी भी मौजूद हैं दिक्कतें: HSBC रिपोर्ट

माल एवं सेवा कर उत्पाद (GST) को लागू हुए 1 जुलाई को एक साल पूरा हो जाएगा, लेकिन पिछले एक साल के दौरान यह व्यवस्था अपना वादा पूरा करने में नाकाम रही है. ब्रिट‍िश ब्रोकरेज फर्म एचएसबीसी ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि जीएसटी के जरिये अर्थव्यवस्था को अध‍िक औपचारिक बनाया जाना था. लेक‍िन एक साल में अब तक यह काम नहीं हुआ है. एचएसबीसी ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि जीएसटी में अभी भी कई दिक्कतें मौजूद हैं. जिसकी वजह से एक बार फिर इकोनॉमी में कैश की डिमांड बढ़ गई है. वैश्व‍िक फर्म ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ''जीएसटी के जरिये अर्थव्यवस्था को ज्यादा औपचारिक बनाने का वादा था, लेकिन हमारे विचार में अभी तक ऐसा नहीं हो पाया है. यह कैश की डिमांड भी नीचे लाने में सफल नहीं हुआ है. जबक‍ि एक साल के दौरान कैश की मांग बढ़ी ही है.'' रिपोर्ट में एचएसबीसी ने यह जरूर कहा है कि लंबी अवध‍ि में अर्थव्यवस्था को औपचारिक बनाने में जीएसटी जरूर मदद करेगी. हालांकि लघु अवध‍ि में टैक्स रिफंड की दिक्कतें, इसके नेटवर्क के बेहतर काम न करने और ज्यादा टैक्स रेट होने की वजह से कैश की डिमांड बढ़ी है. बता दें कि जीएसटी की व्यवस्था देश में 1 जुलाई, 2017 को लागू की गई थी. इस व्यवस्था को लागू हुए करीब एक साल हो चुका है. इस एक साल के दौरान इसमें कई बड़े बदलाव किए गए. यह बदलाव टैक्स रेट्स से लेकर रिफंड की प्रक्रिया को आसान बनाने तक रहा है.

माल एवं सेवा कर उत्पाद (GST) को लागू हुए 1 जुलाई को एक साल पूरा हो जाएगा, लेकिन पिछले एक साल के दौरान यह व्यवस्था अपना वादा पूरा करने में नाकाम रही है. ब्रिट‍िश ब्रोकरेज फर्म एचएसबीसी ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि जीएसटी के जरिये अर्थव्यवस्था को अध‍िक …

Read More »

कश्मीर में ‘ऑपरेशन ऑल आउट’ पार्ट-2 शुरू, सेना ने जारी की 21 मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची

रमजान के महीने में एकतरफा संघर्षविराम का फायदा उठाकर नेटवर्क मजबूत बनाने में कामयाब रहे आतंकी संगठनों की कमर तोड़ने का सुरक्षाबलों ने इंतजाम कर लिया है। सफल ऑपरेशन ऑल आउट के बाद अब एक बार फिर सेना घाटी में सक्रिया आतंकियों को चुन-चुनकर मारने की तैयारी में है।सुरक्षाबलों ने दक्षिण कश्मीर से उत्तरी कश्मीर तक सक्रिय 256 आतंकियों को चिह्नित किया है, इनमें से 21 को मोस्ट वांटेड की सूची में रखा गया है। सूची में आतंकी बांगरु का नाम नहीं सूची में श्रीनगर, पुलवामा, गांदरबल और बड़गाम में सुरक्षाबलों के लिए सिरदर्द बना महराजुदीन बांगरु का नाम नहीं है। बांगरु ने बीते तीन वर्षों के दौरान श्रीनगर व साथ सटे इलाकों मे आतंकियों की नई पौध तैयार करने में अहम भूमिका निभाई है। हालांकि आधिकारिक तौर पर कोई भी सैन्य या पुलिस अधिकारी मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची की पुष्टि नहीं कर रहा है। वे सीधे शब्दों में कहते हैं कि उनके लिए प्रत्येक आतंकी मोस्ट वांटेड ही हैं। टंगडार में मारे गए आतंकियों के शव कब्र से निकाल परिजनों को सौंपे यह भी पढ़ें सूची में सबसे ज्यादा 11 आतंकी हिजबुल के सूत्रों के मुताबिक, मोस्ट वांटेड आतंकियों की तैयार की गई सूची में सबसे ज्यादा 11 आतंकी हिजबुल मुजाहिदीन के हैं। इसमें अंसार-उल-गजवा-ए हिंद का कमांडर जाकिर मूसा भी शामिल है। सूची में जैश के दो और लश्कर के सात आतंकी हैं। अल-बदर का एक भी आतंकी मोस्ट वांटेड नहीं है। अवंतीपोर से लापता हुए युवक के आतंकी बनने की आशंका यह भी पढ़ें किस श्रेणी में कितने आतंकी सूची में शामिल 21 आतंकियों में से डबल प्लस ए श्रेणी के सात, सिंगल ए श्रेणी के छह, ए श्रेणी के चार और बी-श्रेणी के दो आतंकी हैं। दो अन्य आतंकियों को अभी सुरक्षाबलों ने किसी वर्ग में शामिल नहीं किया है। दोनों जैश- ए- मुहम्मद के स्थानीय आतंकी जाहिद अहमद वानी और मुदस्सर अहदम खान हैं। करीमाबाद पुलवामा का रहने वाला जाहिद जून, 2017 में और मुदस्सर (निवासी मिडूरा, अवंतीपोर) इसी साल जनवरी में आतंकी बना है। आतंकियों ने जारी किया शहीद औरंगजेब का आखिरी वीडियो, पूछे थे ये सवाल यह भी पढ़ें ऑपरेशन ऑल आउट क्यों शुरू हुआ बता दें कि पिछले साल 2017 में घाटी में आतंकियों के सफाये के लिए सुरक्षाबलों ने ऑपरेशन ऑल आउट शुरू किया था। इस ऑपरेशन के पहले चरण में सेना ने 200 से ज्यादा आतंकी मार गिराये थे। अब रमजान खत्म होने और जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू होने के बाद सेना ने घाटी में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन ऑलआउट पार्ट- 2 शुरू कर दिया है। सैन्य सूत्रों के अनुसार इस समय कश्मीर में करीब 300 आतंकी सक्रिय हैं, लेकिन इस समय सेना की हिट लिस्ट में 20 मोस्ट मांटेड टेरोरिस्ट हैं। ये सभी मोस्ट वांटेड टेरोरिस्ट दक्षिणी कश्मीर के हैं।

रमजान के महीने में एकतरफा संघर्षविराम का फायदा उठाकर नेटवर्क मजबूत बनाने में कामयाब रहे आतंकी संगठनों की कमर तोड़ने का सुरक्षाबलों ने इंतजाम कर लिया है। सफल ऑपरेशन ऑल आउट के बाद अब एक बार फिर सेना घाटी में सक्रिया आतंकियों को चुन-चुनकर मारने की तैयारी में है।सुरक्षाबलों ने …

Read More »

टॉप न्यूज : 10 बड़ी खबरें, आज जिन पर बनी हुई है नजर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देश के लोगों को संबोधित कर रहे हैं। पीएम ने अपने संबोधन की शुरुआत बेंगलुरु में भारत और अफगानिस्तान के बीच हुए ऐतिहासिक क्रिकेट मैच से की। उन्होंने खेल की भावना की तारीफ की। पीएम ने कहा, ‘खेल समाज को एकजुट …

Read More »

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com