US: स्टेट ऑफ द यूनियन के पहले संबोधन में डोनाल्‍ड ट्रंप बोले- चीन और रूस अमेरिकी मूल्यों को देते हैं चुनौती

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पहले स्टेट ऑफ द यूनियन संबोधन में देश के लोगों से अपील कि है कि वे डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन के बीच मौजूद मतभेदों से ऊपर उठें. उन्होंने कहा, ‘‘आज रात, मैं सभी से अपील करता हूं कि अपने मतभेदों से ऊपर उठें, समान आधार खोजें और जिनकी सेवा करने के लिए हम निर्वाचित हुए हैं, उनके लिए एकजुट हों.’’  भारतीय-अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल सहित डेमोक्रेटिक पार्टी के करीब एक दर्जन सांसदों के बहिष्कार के बीच ट्रंप ने आज (भारत में बुधवार सुबह) को अपना परंपरागत स्टेट ऑफ द यूनियन संबोधन दिया.

इस दौरान ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी नागरिक दुनिया में सबसे ज्यादा सुरक्षित हैं. अमेरिका और मजबूत हुआ है क्योंकि अमेरिकी लोग मजबूत हैं. उन्होंने कहा कि हमने अमेरिका और महान बनाने के लिए कदम उठाए हैं. ट्रंप ने दावा किया कि 45 साल में बेरोजगारी सबसे कम हो गई है, मुझे इस बात का गर्व है. अमेरिकी अफ्रीकी में भी बेरोजगारी सबसे कम है. अमेरिकी हिस्पैनिक में भी इतिहास में बेरोजगारी सबसे कम है.

डोनाल्ड ट्रंप ने डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन सांसदों से अपने मतभेदों अलग रखने को कहा. उन्होंने चीन और रूस पर निशाना साधते हुए कहा कि चीन और रूस अमेरिकी मूल्यों को चुनौती देते हैं.  अमेरिका संतुलित व्यापार करने के लिए प्रतिबद्ध देशों के साथ नये व्यापार समझौते करना चाहता है. ट्रंप ने कहा कि योग्यता आधारित आव्रजन प्रणाली की दिशा में बढ़ने का समय आ गया है. 

पुतिन ने अमेरिकी सूची को ‘शत्रुतापूर्ण’ बताया
रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने अमेरिकी प्रतिबंध कानून के तहत जारी देश के अधिकारियों और उद्योगपतियों की सूची को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के राजनीतिक शत्रुओं की ओर से उठाया गया शत्रुतापूर्ण और ‘बेवकूफी’ भरा कदम बताते हुए कहा कि क्रेमलिन फिल्हाल कोई जवाबी कार्रवाई नहीं करेगा.

वहीं वाशिंगटन में विपक्षी दल डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसदों ने इससे विपरित शिकायत करते हुए आरोप लगाया है कि ट्रंप पुतिन के प्रति नरम रूख अपना रहे हैं. वर्ष 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में कथित हस्तक्षेप को लेकर रूस के रक्षा और खुफिया क्षेत्रों को सबसे अलग-थलग करने की मंशा रखने वाले कानून को लागू नहीं करने पर राष्ट्रपति की आलोचना की है.

डेमोक्रेट्स का कहना है कि पुतिन द्वारा जवाबी कार्रवाई नहीं किया जाना यह दिखाता है कि रूसी नेता को अभी भी अमेरिका के साथ संबंध सामान्य होने की आशा है. इस सूची में पुतिन प्रशासन के ज्यादातर वरिष्ठ सदस्य शामिल हैं. सूची में 114 राजनीतिज्ञ और 96 कारोबारी शामिल हैं। इनमें से हर कारोबारी एक अरब डालर से ज्यादा संपत्ति का मालिक है और अमेरिकी सरकार उन्हें पुतिन का करीबी मानती है.

सात पन्ने की इस गैर-गोपनीय सूची से सीधे किसी प्रतिबंध की शुरुआत नहीं होती. इसमें विदेशमंत्री सर्गेई लावरोव और प्रधानमंत्री मेदवेदेव और रूसी खुफिया एजेंसियों के शीर्ष अधिकारी शामिल हैं. प्रतिबंधित लोगों की इस सूची में ऊर्जा क्षेत्र की रोसनेफ्ट और स्बरबैंक सरीखी बड़ी कंपनियों के सीईओ भी शामिल हैं.

 
Loading...