टेक्नोलॉजी बाजार में आया उछाल, उद्यमिता व रोजगार अपार

कानपुर : ‘देश मे टेक्नालॉजी(तकनीकी) का बाजार तेजी के साथ बढ़ रहा है। उद्यमिता व रोजगार के क्षेत्र मे अपार संभावनाएं सामने आ रही है। पांच वर्षो के समय अंतराल मे इसका बाजार कई गुना बढ़ने की संभावना है। दो साल का बच्चा भी आधुनिक तकनीकी का इस्तेमाल कर रहा है। कहा जा सकता है कि प्रतिवर्ष देश मे दस हजार से अधिक स्टार्टअप स्थापित होगे।’

यह जानकारी नैसकॉम के चेयरमैन बीवीआर मोहन रेड्डी ने दी। रविवार को वे आइआइटी के स्टार्टअप मास्टर क्लास मे शिरकत करने आए थे। बताया कि नैसकॉम से वर्षो पहले जुड़ी छोटी कंपनियां अब और बड़ी हो गई है। जबकि नई कंपनियां भी बढ़ रही है। उनका अध्ययन बताता है कि पहले तकनीकी का अर्थ सूचना प्रौद्योगिकी से हुआ करता था। लेकिन अब यह स्वास्थ, शिक्षा व यातायात के क्षेत्र मे भी इसने अपना दायरा बढ़ा लिया है।

सेसर बताता है ब्लड शुगर का लेवल : नैसकॉम चेरयमैन बीवीआर मोहन रेड्डी ने बताया कि पॉवरफुल सेसर की तकनीकी तेजी के साथ हमारे देश मे आ रही है। यह ऐसे सेसर है जो विदेशो के बाद भारत के मेडिकल के क्षेत्र मे अपनी जगह बना रहे है। जहां ब्लड शुगर की जांच खून निकालकर की जाती थी वही अब बिना खून निकाले सेसर यह बता देता है कि आपका शुगर लेवल कितना है। यही नही, कई दूसरी जांचे भी सेसर से की जा रही है।

यह सेसर इतने शक्तिशाली है कि मरीज का विस्तृत आंकड़ा भी रखने की क्षमता रखते है। इसके अलावा यातायात के क्षेत्र मे भी सेसर बेहद आधुनिक हो गए है। प्रोक्सीमेटी ऐसा ही सेसर है जो गाड़ी को किसी भी चीज से टकराने से रोकता है। इससे गाड़ी टकराने वाली चीज से दस फिट पहले रुक जाती है। इंफ्रारेड सेसर एक ऐसा सेसर है जो घने अंधेरे मे देखने की क्षमता रखता है। यूएस व यूके जैसे विकसित देशो के साथ अब हमारे देश मे भी इन सेसर पर रिसर्च हो रही है।

Loading...