उत्‍तराखंड में नई पीसीसी पर पूर्व विधायकों की भी नजर

देहरादून: प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद पर प्रीतम सिंह की नियुक्ति पर मुहर तो लग गई, लेकिन नई कार्यकारिणी (पीसीसी) के लिए अभी लंबा इंतजार करना होगा। यह इंतजार एक माह से ज्यादा भी हो सकता है। 

इस बार प्रदेश संगठन के अहम पदों पर लंबे अरसे से संगठन में सक्रिय पदाधिकारियों के साथ ही पूर्व विधायकों समेत कई दमदार चेहरों को नई पीसीसी के पदों का प्रमुख दावेदार माना जा रहा है। वहीं पार्टी क्षत्रप भी संगठन पर अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए अहम पदों पर नजरें गड़ाए हुए हैं। 

 प्रदेश कांग्रेस की नई कमेटी के गठन को लेकर अंदरखाने पार्टी में जोड़तोड़ शुरू हो चुकी है। ये हालात अभी कुछ और समय तक बने रहेंगे। नई पीसीसी के गठन को लेकर इंतजार खत्म होने में एक माह से ज्यादा वक्त लगना तकरीबन तय माना जा रहा है। अलबत्ता, ब्लॉक कांग्रेस और जिला कांग्रेस के अध्यक्ष पदों पर नियुक्ति जल्द होना तय है। 

यह कार्य हफ्ते-डेढ़ हफ्ते के भीतर हो सकता है। निचले स्तर की इन अहम इकाइयों के मुखियाओं पर नाम तय किए जा चुके हैं। इन पर हाईकमान की मुहर लगने के बाद सूची जारी करने के निर्देशों की प्रतीक्षा की जा रही है। 

मौजूदा पीसीसी की तर्ज पर ही नई पीसीसी का आकार भी बड़ा रखा जाना भी तय माना जा रहा है। केंद्र और प्रदेश की सत्ता में रहते हुए कांग्रेस ने उत्तराखंड के लिए 111 पदाधिकारियों की लंबी-चौड़ी सूची जारी की थी। मौजूदा पीसीसी में 22 उपाध्यक्ष, 28 महामंत्री, 60 सचिव और एक कोषाध्यक्ष शामिल हैं। माना जा रहा है कि नई पीसीसी का आकार मौजूदा से ज्यादा रखा जा सकता है। दरअसल, इस बार प्रदेश संगठन के अहम पदों पर कई दमदार नेता भी टकटकी बांधे हुए हैं। इनमें कई पूर्व विधायक व पूर्व मंत्री शामिल हैं। विधानसभा चुनाव के मौके पर कांग्रेस में शामिल हो चुके कई नेता भी संगठन में अहम भूमिका चाह रहे हैं। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय और एआइसीसी सचिव प्रकाश जोशी की ओर से भी समर्थकों को एडजस्ट करने का दबाव बना हुआ है। हालांकि, नई प्रदेश कांग्रेस कमेटी से पहले केंद्रीय स्तर पर नई अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआइसीसी) के गठन पर निगाहें टिकी हुई हैं। 

कांग्रेस अध्यक्ष पद की कमान राहुल गांधी के हाथों में आने के बाद एआइसीसी का सत्र अब तक आहूत नहीं हुआ है। पार्टी सूत्रों की मानें तो यह सत्र अगले माह फरवरी अंत तक हो सकता है। वहीं पार्टी हाईकमान सूबे के दिग्गजों को एआइसीसी में एडजस्ट कर सकता है। इन हालात में आगामी मार्च से पहले नई पीसीसी के गठन के आसार न के बराबर माने जा रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि नई पीसीसी के गठन के बारे में हाईकमान को फैसला लेना है। हाईकमान के निर्देश पर ही कदम उठाया जाएगा। 

 
Loading...