गणतंत्र दिवस पर 651 पुलिसकर्मी होंगे सम्मानित, लखनऊ के SSP दीपक कुमार समेत 150 को स्वर्ण चिह्न दिया जाएगा

डीजीपी मुख्यालय ने बुधवार शाम गणतंत्र दिवस 2018 के लिए डीजीपी प्रशंसा चिह्न की घोषणा कर दी। 651 पुलिस कर्मियों को उत्कृष्ट, सराहनीय सेवा सम्मान चिह्न और प्रशंसा चिह्न से सम्मानित किया जाएगा।

डीजी विजिलेंस हितेश अवस्थी, डीजी पीएसी आरके विश्वकर्मा, एडीजी पीएचक्यू बीपी जोगदंड, आईजी नवनीत सिकेरा, गृह सचिव भगवान स्वरूप, आईजी भर्ती बोर्ड वितुल कुमार, डीजीपी के सहायक संजय सिंघल, एसपी आगरा अमित पाठक, एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार समेत 150 पुलिस अधिकारियों व कर्मियों को पुलिस महानिदेशक का प्रशंसा चिह्न (स्वर्ण) दिया जाएगा।

वहीं, 251 अधिकारियों व कर्मियों को डीजीपी का प्रशंसा चिह्न (सिल्वर) दिया जाएगा। इनमें डीजी अभिसूचना भवेश कुमार सिंह, एडीजी सुरक्षा विजय कुमार, एडीजी क्राइम चंद्र प्रकाश, आईजी ए सतीश गणेश, डीआईजी प्रवीण कुमार, आईजी एसटीएफ अमिताभ यश शामिल हैं।

एनकाउंटर करने वाले अजयपाल शर्मा और अजय साहनी के नाम सूची में न होने से विवाद

सम्मानित किए जाने वाले पुलिस अधिकारियों व कर्मियों की सूची पर विवाद भी खड़ा हो गया। बुधवार शाम डीजीपी कार्यालय से सूची जारी हुई और फिर उसे यह कहकर रोक दिया गया कि संशोधित सूची जारी होगी। देर रात डीजीपी मुख्यालय ने शाम को ही जारी की गई सूची को ही हरी झंडी दे दी।
सूत्रों के अनुसार सूची में ऐसे लोगों के नाम नहीं थे जिन्होंने अपने-अपने जिले में अपराध नियंत्रण में अहम भूमिका निभाई और कई बदमाशों को ढेर किया। दूसरी तरफ सूची में कुछ ऐसे पुलिस वालों के नाम भी शामिल थे जिनका पिछले एक साल में कोई विशेष योगदान नहीं रहा।

मुख्यमंत्री तक जानकारी पहुंची कि मुठभेड़ में अपराधियों को ढेर करने वाले शामली के एसपी अजयपाल शर्मा और आजमगढ़ के एसपी अजय साहनी का नाम सूची में नहीं है तो उन्होंने पूरी सूची के साथ डीजीपी ओपी सिंह को तलब कर लिया।

जिनके नाम रह गए, उन्हें 15 अगस्त पर मिलेगा सम्मान

सूत्रों का कहना है कि यह सूची पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह ने तैयार कराई थी। मुख्यमंत्री द्वारा डीजीपी को तलब किए जाने के बाद सम्मानित किए जाने वाले पुलिस कर्मियों की सूची को लेकर संशय की स्थिति बन गई। डीजीपी मुख्यालय से भी संदेश जारी कर दिया गया कि सूची रोक दी गई है।
संशोधन के बाद दोबारा सूची जारी की जाएगी। देर रात डीजीपी मुख्यालय ने यह कहते हुए पहले वाली सूची को फाइनल कर दिया कि यह सभी जिलों को भेजी जा चुकी है। बृहस्पतिवार को रिहर्सल होना है। ऐसे में अब सूची में संशोधन संभव नहीं है। जिन लोगों के नाम रह गए हैं, उन्हें स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त को सम्मानित किया जाएगा।
 
 
Loading...