उत्तराखंड के ग्राम कुंभीचौड़ में कुत्ता समझ गुलदार को चमकाई टार्च, बची जान

कोटद्वार: ग्राम कुंभीचौड़ में गुलदार की दस्तक से ग्रामीण सहमे हुए हैं। ग्रामीण खेतों में जाने से पहले अपने साथ लाठी और डंडे लेकर जा रहे हैं। वहीं, पूर्व भी गुलदार ने गांव की एक गोशाला में घुसकर पशुओं पर हमला करने का प्रयास किया था, लेकिन जाग होने पर वह भाग गया था।

वन क्षेत्र से सटे ग्राम कुंभीचौड़ में आए दिन गुलदार गांव के आस-पास खेतों में दिखाई दे रहा है। इससे ग्रामीण खेतों पर भी जाने से कतरा रहे हैं। गुलदार की दस्तक से किसानों को गेहूं की फसल की सिंचाई करने में भी परेशानी आ रही है।  ग्राम प्रधान मनोज पांडेय ने बताया कि गांव के आसपास या खेतों में गुलदार के हमला करने का खतरा बना हुआ है। बताया कि गत रात गांव के पास एक व्यक्ति ने अंधेरे में गुलदार को कुत्ता समझकर उसे भगाने का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं भागा। 

इस पर उसने टॉर्च जलाकर देखी तो वह गुलदार था। तब ग्रामीण ने शोर मचा दिया। शोर सुनकर अन्य ग्रामीण भी मौके पर जमा हो गए। इस पर गुलदार जंगल की ओर भाग गया। बताया कि एक सप्ताह पूर्व भी गुलदार ने एक गोशाला में घुसने का प्रयास किया था। उन्होंने वन विभाग से गुलदार को पकड़ने के लिए पिंजरा लगाने की मांग की। 

Loading...