नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (AAP) लंबे वक्त से बाहरी और भीतरी के विवाद में उलझी हुई है. AAP के नेता ही पार्टी के वरिष्ठों पर हमले कर रहे हैं. इस बीच पार्टी के सामने 20 विधायकों को अयोग्य करार दिए जाने की मुश्किल खड़ी हो गई है. पार्टी इन मुश्किलों से गुजर रही है और इसी बीच पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से एक कुमार विश्वास ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर एक बार फिर से हमला बोला है. कुमार विश्वास ने इशारों इशारों में पार्टी प्रमुख और संयोजक अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा है.

कुमार विश्वास ने आप के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द होने पर सोमवार को दुख जताया और कहा कि एक कार्यकर्ता हूं इसलिए मुझे अफसोस है लेकिन यह अवैध है या वैध, मैं उस पर टिप्प्णी नहीं कर सकता. उन्होंने इसका कारण बताया और कहा कि बीते 2 महीने पहले से ही पार्टी ने मुझसे दूरी बना ली थी. कुमार विश्वास यूपी के इटावा में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे.

राष्ट्रपति द्वारा आप विधायकों को अयोग्य ठहराने की सिफारिश मंजूर किए जाने के मामले पर भी विश्वास ने टीका टिप्पणी से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि यह हमारा संवैधानिक उत्तरदायित्व है कि राष्ट्रपति भवन पर टीका टिप्पणी न की जाए. इससे देश की अस्मिता पर सवाल खड़ा होता है. वहीं, AAP से राज्यसभा टिकट न मिलने के सवाल पर विश्वास ने कहा कि एक कवि कभी हाशिये पर नहीं रहता.

उन्होंने कहा कि मैंने हमेशा गलत को गलत और सही को सही कहा है. इस समय सभी पार्टियों में जी साहब का कल्चर चल रहा है. इस समय हमारी पार्टी में भी आंदोलन के बाद कुछ बाहर से एसपी, बीएसपी और कांग्रेस से आये हुए सत्ता के अनुचरों ने सुप्रीमो पद्धति लागू करने का प्रयास किया है. विश्वास ने पार्टी में आये गुप्ता बंधुओ पर तंज कसा. उन्होंने कहा कि इस समय पार्टी में अजगर वाले लोग आए हैं जो मेरी तरह पार्टी के लिए रैली करेंगे और शायद भीड़ को वोट में परिवर्तित कर 20 की 20 सीटें जिताकर नरेंद्र मोदी का मुंह बंद कर देंगे.