मकर संक्रांति पर श्रद्धा की डुबकी

मकर संक्रांति 2018: प्रयाग में श्रद्धालुओं ने लगाई पवित्र डुबकी

मकर संक्रांति के दिन तीर्थराज प्रयाग में गंगा, यमुना और सरस्वती के त्रिवेणी संगम के किनारे इन दिनों आस्था का संगम देखने को मिल रहा है। संगम तट पर लगे माघ मेले में रेती पर बसा शहर सुबह-शाम गुलजार है। मकर संक्रांति और मौनी अमावस्या के चलते यहां करोड़ों लोगों ने स्नान किया। संक्रांति पर स्नान, दान, जप, तप, श्राद्ध और अनुष्ठान का बहुत महत्व है। सूर्य का मकर राशि में प्रवेश करना ही मकर संक्रांति कहलाता है। इस दिन से सूर्य का दक्षिणायन से उत्तरायण हो जाता है। आइए देखते हैं किस तरह मकर संक्रांति पर प्रयाग के पवित्र जल में स्नान-दान कर पुण्य की प्राप्ति की…मकर संक्रांति पर श्रद्धा की डुबकी
लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी
संक्रांति के दिन पवित्र नदियों में स्नान का भी विशेष महत्व माना जाता है। यही वजह है कि मकर संक्रांति के दिन तीर्थराज प्रयाग में लाखों श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई।
दान करने का है विशेष महत्व

मकर संक्रांति के दिन दान करने का विशेष महत्व बताया गया है। प्रयाग में गरीबों को दान करती हुई महिला।

 प्रयाग में लगा मेला
प्रयाग में गंगा स्नान के लिए मेला भी लगा हुआ है और नौकायन की भी व्यवस्था की गई है।

श्राद्ध करने का है महत्व

मकर संक्रांति के दिन अपने पितरों का श्राद्ध करने का विशेष महत्व है।

प्रयाग में भजन-पूजन

मकर संक्रांति के दिन प्रयाग में संगम के दौरान भजन-पूजन करते हुए संत

बड़ी संख्या में पहुंचे साधु संत

माघ मेले में मकर संक्रांति के स्नान के लिए श्रद्धालुओं के साथ-साथ बड़ी संख्या में साधु संत भी इलाहाबाद पहुंचे हैं। ज्योतिषियों के मुताबिक कई वर्षों बाद इस बार मकर संक्रांति के दिन विशेष मुहूर्त में दुर्लभ संयोग बन रहा है।
Loading...