अधिकारियों ने कहा कि वानी की मौत से लोग और नाराज हो गये और उन्होंने पास के सेना शिविर पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया.उन्होंने कहा कि सेना ने पहले तो हवा में गोलियां चलायी लेकिन जब जवानों पर दूसरी तरफ से कथित रूप से गोलियां चलने लगीं तो भीड़ को निशाना बनाकर गोली चलाई गई. उन्होंने कहा कि दो लोगों को गोलियां लगीं जिनमें से एक ने अस्पताल में दम तोड़ दिया.

मृतक की पहचान 22 साल के खालिद डार के रूप में हुई है. दूसरे घायल व्यक्ति 30 साल के यासिर की अस्पताल में स्थिति स्थिर बताई जा रही है. पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि कुलगाम थाने में मामला दर्ज किया गया है और जांच शुरू की गई है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि कहा गया है कि कुछ अज्ञात आतंकवादियों ने भीड़ की आड़ में सेना शिविर पर गोलियां चलाईं.

मुठभेड़ की जानकारी देते हुए अधिकारियों ने कहा कि खुफिया खबर मिली थी कि कोकेरनाग के लारनू के पहलीपोरा गांव में हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर ए तैयबा के आतंकवादी एकत्रित हुए हैं. उन्होंने कहा कि एक आतंकवादी मारा गया जबकि पांच अन्य के भागने की खबर है.

पुलिस प्रवक्ता ने पुष्टि की कि कोकेरनाग में मुठभेड़ में एक ‘‘हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकवादी’’ मारा गया. इससे पहले पुलिस और सेना ने मुठभेड़ में दो आतंकवादियों के मारे जाने का दावा किया था. पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि मुठभेड़ में एक आतंकवादी मारा गया जिसकी पहचान फरहान अहमद वानी के रूप में हुई है जो कुलगाम जिले के रेदवानी.

खुदवानी का निवासी है. प्रवक्ता ने कहा कि मुठभेड़ स्थल से एक इंसास राइफल, दो मैगजीन और 42 कारतूस जब्त किये गये हैं. वानी एक ‘‘कट्टर पत्थरबाज’’ था और उसके खिलाफ जम्मू कश्मीर रणबीर दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत एक प्राथमिकी दर्ज है. वह कई राष्ट्रविरोधी एवं गैरकानूनी क्रियाकलापों में लिप्त था.