Saturday , February 27 2021

बेशर्म पाकिस्तान, फवाद के बाद गफूर ने दिया बेहूदा बयान

पूरी दुनिया जहां भारत के महत्वाकांक्षी मून मिशन चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के लिए इसरो और भारतीय वैज्ञानिकों की लोहा मान रही है, वहीं पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान यहां भी अपनी ओछी हरकत दिखाने से बाज नहीं आया।

दरअसल लैंडिंग से ठीक पहले लैंडर विक्रम (Vikram) से संपर्क टूटने के बाद पाकिस्तान के विज्ञान और तकनीकी मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने बेहूदा टिप्पणी की। इस कड़ी में एक और पाकिस्तानी का नाम जुड़ गया है। ये नाम है पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता आसिफ गफूर का। गफूर ने भी इसे लेकर गैर जिम्मेदाराना ट्वीट किया है। इतने बड़े पद पर रहते हुए उनका ये बयान काफी हास्यास्पद है। इसने उनके सोच को पूरी दुनिया के सामने उजागर कर दिया है।

बता दें कि फवाद ने ट्वीट किया – जो काम आता नहीं पंगा नहीं लेते ना…. डियर ‘एंडिया’। फवाद ने ट्वीट में व्यंग्य करते हुए इंडिया की जगह एंडिया लिखा। फवाद यहीं नहीं रुके। उन्होंने एक भारतीय यूजर के ट्वीट पर बड़ी बेशर्मी से रिट्वीट किया। भारतीय यूजर अभय कश्यप के ट्वीट पर रिट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा- सो जा भाई मून की बजाय मुंबई में उतर गया खिलौना। इसके बाद वे ट्रोल हुए, तो लिखा कि मुझे ऐसे ट्रोल किया जा रहा है, जैसे मैंने ही इस मिशन को फेल कर दिया हो।

बेशर्मी पर पाकिस्तान में ही ट्रोल
फवाद ने एक और बेशर्मी भरा ट्वीट किया। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा-  मोदी जी ऐसे भाषण दे रहे हैं, जैसे वो नेता नहीं एक अंतरिक्ष यात्री हों। लोकसभा को उनसे एक गरीब राष्ट्र के 900 करोड़ रुपये बर्बाद करने के लिए सवाल पूछना चाहिए। बहरहाल फवाद अपनी इस बेशर्मी पर पाकिस्तान में ही ट्रोल हो गए।

पाकिस्तान पत्रकार नायला इनायत ने उन्हें जवाब देते हुए लिखा – इंडिया के पास ये सब करने के लिए 900 करोड़ हैं और आप के पास मुफ्त का ट्विटर अकाउंट। उन्होंने फिर एक ट्वीट करके लिखा भारत द्वारा खर्च की गई रकम की गिनती करते हुए फवाद चौधरी। उन्होंने एक और ट्वीट में लिखा – फवाद चौधरी अपने छत पर लैंड कर गए हैं।

ड्रैगन की बैसाखी पर पाकिस्तान की स्पेस एजेंसी  
फवाद चौधरी और गफूर ट्वीट करते हुए विज्ञान की दुनिया में पाकिस्तान कहा खड़ा है वो भूल गए। दोनों इस बात को भूल गए कि उनके देश को सैटेलाइट लॉन्च करने में 50 साल लग गए। मसलन पाकिस्तान की राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी SUPARCO (स्पेस एंड अपर एट्मोस्फीयर रिसर्च कमीशन) की स्थापना 1961 में की गई थी।इसने अपना पहला संचार सैटेलाइट 50 साल बाद चीन की मदद से लॉन्च किया था। यही नहीं पाकिस्तान की स्पेस एजेंसी इसरो से पहले की है।

बता दें कि भारत द्वारा चंद्रयान 2 को चांद पर भेजने के बाद पाकिस्तान ने फैसला किया था कि वो अपने पहले स्पेश यात्री को 2022 में भेजेगा। इस मिशन को वो अपने दोस्त चीन की मदद से पूरा करेगा। इसकी घोषणा फवाद चौधरी ने ही की थी। इस दौरान भी वे जमकर ट्रोल हुए थे।

बडबोले रेल मंत्री के बयान
फवाद को इस दौरान ये भी ध्यान नहीं रहा कि पाकिस्तान तंगहाली के दौर से गुजर रहा है। दोनों अपने बडबोले रेल मंत्री के बयान को भूल गए। रशीद ने लाहौर में रेलवे मंत्रालय की उपलब्धियां गिनाने के लिए एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजित किया था, जिसमें उन्होंने कहा कि इन दिनों हम थूक से पकौड़े तल रहे हैं, इस वजह से कुछ बड़ा नया नहीं कर सकते हैं।

गैर जिम्मेदाराना बयान देना पाकिस्तानियों की आदत
हालांकि, ये पहला ऐसा अवसर नहीं है जब पाकिस्तान की ओर से ऐसी गैर जिम्मेदाराना और हास्यास्पद बयान दी है। पाकिस्तानी कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही ओछी बयान दे रहा है। वो लगातार युद्ध की धमकी देते रहते हैं। बड़बोले मंत्री रशीद ने कुछ दिन पहले ही बयान दिया था कि पाकिस्तान के पास 150 से 250 ग्राम के परमाणु बम हैं, जो किसी लक्षित इलाके को नेस्तनाबूद करने में सक्षम हैं।

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com