उन्होंने कहा, हम आशा करते हैं कि भारतीय पक्ष उसी दिशा में बढ़ेगा जिस दिशा में चीनी पक्ष बढ़ेगा तथा दोनों पक्ष संबंधों के विकास तथा चीन भारत सीमा पर शांति एवं स्थायित्व बनाए रखने पर बल देंगे क्योंकि यह उनके हित में है. जब उनसे हाल ही में सिक्किम सेक्टर में चीनी क्षेत्र में एक भारतीय ड्रोन के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने ब्योरा देने से मना कर दिया तथा यह भी नहीं बताया कि चीनी सैनिकों को मिले कलपुर्जे भारत को लौटाए गए या नहीं.

कर्नल रेन ने कहा, यह हमारा रुख है कि भारत को इस घटना से सबक सीखना चाहिए था. सात दिसंबर को चीन ने राजनयिक विरोध दर्ज कराया था जिसमें दावा किया था कि एक भारतीय ड्रोन उसके विमान क्षेत्र में प्रवेश कर गया और सीमा के सिक्किम क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हो गया. भारत ने सफाई दी है कि उसका मानवरहित वायुयान तकनीकी गड़बड़ी का शिकार हो गया और उसने चीन से उसे लौटाने को कहा.