2015 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी को भारी बहुमत मिला था. इस जीत के बाद यह स्पष्ट हो गया था कि आम आदमी पार्टी तीन उम्मीदवारों को राज्यसभा में भेज सकती है. बीच में खबरें आई थीं कि आम आदमी पार्टी अपने नेताओं के बजाए अन्य क्षेत्रों के विशेषज्ञों को राज्यसभा में भेज सकती है, लेकिन पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन ने ऐसा प्रस्ताव ठुकरा दिया था.