Monday , September 26 2022

छात्रों ने नारेबाजी कर इन नौ मांगों को लेकर अपनी आवाज बुलंद की

बुधवार को वाराणसी में महात्‍मा गांधी काशी विद्यापीठ में विभिन्‍न मांगों को लेकर छात्रों का हंगामा हुआ। इस दौरान धरना-प्रदर्शन के साथ ही छात्रों ने नारेबाजी कर नौ मांगों को लेकर अपनी आवाज बुलंद करते हुए विद्यापीठ प्रशासन को ज्ञापन भी सौंपा।

 छात्रावास से पीएसी हटवाने सहित नौ सूत्रीय मांगों को लेकर महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के छात्रों ने बुधवार को जमकर हंगामा किया। पंत प्रशासनिक भवन में घुस कर छात्र नारेबाजी करने लगे। कुछ छात्र कार्यालय के भीतर तो कुछ चैनल गेट के बाहर धरने पर बैठकर विरोध प्रदर्शन करने लगे। छात्रों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस भी पहुंच गई और प्रदर्शन कर रहे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की काशी विद्यापीठ इकाई के छात्रों को समझाने बुझाने में जुटी रही। इस दौरान छात्रों ने कुलपति को संबोधित चीफ प्राक्टर कार्यालय को एक ज्ञापन भी सौंपा हैइसमें विश्वविद्यालय परिसर स्थित छात्रावास से पीएसी बल को हटाते हुए तत्काल प्रभाव से छात्रों को आवंटित करने, परिसर में कैंटीन की व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित की मांग शामिल है। छात्रों ने विश्वविद्यालय व संबद्ध कालेजों में पठन पाठन की व्यस्था सुचारू रूप से संचालित कराने की मांग की है। कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप पाठ्यक्रमों को अपडेट व संशोधित किया जा चुका हैI वही पुस्तकों का घोर अभाव है। यहां तक कि लाइब्रेरी में भी पुस्तकें नहीं है। ऐसे में पठन-पाठन सुचारू रूप से संचालित न होने पर व्यापक आंदोलन की चेतावनी दी है Iधरना प्रदर्शन में मुख्य रूप से विद्यार्थी परिषद के संगठन मंत्री सर्वेंद्र कुमार, विष्णु मिश्र, आकाश सिंह सहित बड़ी संख्या में छात्र शामिल रहे।

प्रमुख अन्य मांगें

– कृषि छात्रों के प्रयोगात्मक के लिए प्रयोगशाला एवं कृषि फार्म उपलब्‍ध कराया जाय।

– विश्वविद्यालय परिसर व संबद्ध महाविद्यालयों में विषय अनुसार शिक्षकों की हो नियुक्तियां।

– विश्वविद्यालय व संबद्ध महाविद्यालयों में चले नियमित रूप से कक्षाएं, उपलब्ध हो प्रयोगात्मक उपकरण।

– विश्वविद्यालय व संबद्ध महाविद्यालयों में अवैध फीस वसूली पर लगे लगाम ।

– राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुरूप लाइबेरी में उपलब्ध हो पाठ्य पुस्तकें।

– बीएड द्वितीय एवं चतुर्थ सेमेस्टर का पाठ्यक्रम पूर्ण न होने के कारण आगे बढ़ाई जाय परीक्षाओं की तिथि।

Loading...