Monday , September 26 2022

चाणक्य के इन सुविचारों को मानकर जीवन में आगे बढ़ा जा सकता  

जीवन में सुख-शांति और खुशहाली बनाए रखने के लिए आचार्य चाणक्य ने जीवन की कई पहलुओं पर जोर दिया है. चाणक्य के इन सुविचारों को मानकर जीवन में आगे बढ़ा जा सकता है. 

आचार्य चाणक्य के विचारों को श्रेष्ठ माना गया है. मान्यता है कि चाणक्य के विचारों को पालन करके जीवन को सुखमय तो बनाया जा सकता ही है. साथ ही, जीवन में शांति और सफलता का मार्ग भी पाया जा सकता है. चाणक्य ने कई शास्त्रों की रचना की थी, जिसका अनुसरण मानव आज भी कर रहा है. उन्होंने अपने नीतियों में व्यक्ति को लक्ष्य प्राप्ति के मार्ग के बारे में बताया है. साथ ही, कुछ ऐसे बातों को समझाया गया है, जो रोजमर्रा के जीवन में बहुत काम आती हैं. 

आचार्य चाणक्य ने एक नीति में बताया है कि किन चीजों को पैर लगाना गलत होता है. इन चीजों को पैर लगाने से व्यक्ति का जीवन बर्बादी की ओर जाने लगता है. जीवन से सुख-चैन सब खो जाता है. आइए जानते हैं, जीवन में किन चीजों को पैर नहीं लगाना चाहिए. 

अग्नि- आचार्य चाणक्य का कहना है कि अग्नि को पैर लगाना अशुभ माना जाता है. बता दें कि अग्नि देवता की पूजा की जाती है. वहीं, शुभ कामों में अग्नि की पूजा की जाती है. और उन्हें साक्षी माना जाता है. ऐसे में उन्हें पैर लगाने से अशुभ फलों की प्राप्ति होती है. 

बुजुर्ग- हमेशा से कहा जाता रहा है कि अपने से बड़े और बुजुर्गों का सम्मान करना चाहिए. उनके पैर छूकर आशर्वाद लेना चाहिए. लेकिन उन्हें भूलकर भी पैर नहीं लगाना चाहिए. कहते हैं कि उन्हें पैर लगाने से पाप लगता है. चाणक्य का कहना है कि जिस घर में बड़ों का आदर नहीं किया जाता , वहां कभी भी सुख-समृद्धि का वास नहीं होता. ऐसे घर में मां लक्ष्मी भी वास नहीं करतीं और रूठ कर चली जाती हैं. 

गुरू- धार्मिक ग्रंथों में गुरू को माता-पिता से भी ऊपर  स्थान प्राप्त है ऐसे में गुरुओं का अनादर भगवान के अनादर के समान माना गया है. चाणक्य के अनुसार हमेशा व्यक्ति को गुरुओं का आदर करना चाहिए और उनके पैरा छूकर आशीर्वाद लेना चाहिए. कहते हैं कि किसी भी शुभ कार्य से पहले गुरुओं का आशीर्वाद लेने से व्यक्ति को हर कार्य में सफलता मिलती है. 

कन्या- हिंदू धर्म में कन्याओं को देवी का रूप माना गया है. ऐसे में चाणक्य के अनुसार कन्या को पैर लगाना या पैर से छूना देवी को पैर लगाने के समान है. अगर गलती से भी कन्या के पैर लग जाए,तो तुंरत माफी मांग लें. ऐसा न करना आपको संकट में डाल सकता है. 

गाय- गाय को भी हिंदू धर्म में पूजनीय स्थान प्राप्त है. ऐसे में गाय को पैर लगाने से पाप के भागीदार बन जाते हैं. घर के बाहर गाय के आने पर उसे मारकर न भगाएं.बल्कि उसे रोटी देकर गाय के पैर छुएं और आशीर्वाद प्राप्त करें. 

Loading...