Tuesday , November 24 2020

पाकिस्तान के लिए मुसीबत बन सकती है ईरान की ये शिया ब्रिगेड

दुबई। जेनेबियॉन ब्रिगेड के बारें में बहुत कम लोग जानते हैं। ईरानी रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉर्प (आईआरजीसी) द्वारा शिया सेनानियों की एक ब्रिगेड तैयार कि जा रही है, यह ब्रिगेड अभी सीरिया में असद शासन के लिए लड़ रहा है। इस ब्रिगेड में मुख्य रूप से बलूचिस्तान, पाराचिनार और ख़ैबर पख़्तूनख़्वा से हजारों की तादाम में शिया युवक लाए जाते हैं। इसी ब्रिगेड का नाम जेनेबियॉन दिया गया है।पाकिस्तान के लिए मुसीबत बन सकती है ईरान की ये शिया ब्रिगेड

इस ब्रिगेड का नाम पैगंबर मुहम्मद की पोती ज़ैनाब के नाम पर रखा गया है। यह ब्रिगेड सीरिया के प्रमुख शहरों में दमस्कुस, अलेप्पो, दारा और हमा में सक्रिय है। इनका प्राथमिक कार्य आईएसआईएस के हमलों से शिया के धार्मिक स्थलों की रक्षा करना है। जेनेबियॉन का गठन 2015 के आसपास किया गया था, पाकिस्तानी शिया लोगों को 2013 से फतेमियॉन में शामिल किया जा रहा था।

फतेमियायुन डिवीजन, जिसमें मुख्य रूप से अफगान शियाओं को शामिल किया गया है, जो 2013 से आईएसआईएस के खिलाफ सीरियाई सरकार की सेना के साथ लड़ रहे हैं। लेबनान के हिजबुल्लाह के बाद फ़ेटेमियम में शायद सीरिया में विदेशी सैनिकों की सबसे बड़ी उपस्थिति है, अनुमान है कि 20,000 अफगानी सेनानी हैं।

अफगान शिया जो सीरिया में फातेमियान में सेवा करने के बाद अफगानिस्तान लौट आए हैं उनके इंटरव्यू में संकेत मिलता है कि ईरान, ईरान और सीरिया के अंदर दोनों अफगान और पाकिस्तानी शियाओं को सैन्य प्रशिक्षण प्रदान करता है। आईआरजीसी ने ईरान के अंदर ‘स्पेशल ट्रेनिंग बेसिस’ में जेनेबियॉन और फाटेमियाउन लड़ाकों के लिए एक चार सप्ताह का प्री-परिनियोजन प्रशिक्षण दिया जाता है।

ईरान में नौ ऐसे प्रशिक्षण शिविर  हैं जो हर योद्धा को इस ब्रिगेड में ईरान की स्थायी निवासता, उनकी मृत्यु के मामले में प्रति माह USD 1200 का भारी मासिक वेतन और लड़ाकों के बच्चों की शिक्षा के लिए भुगतान को निश्चित करता है। पाकिस्तान में गरीब शिया मुस्लिमों में से अधिकांश, आईएसआई समूहों जैसे लश्कर-ए-जहंजी (एलजे) और अन्य कट्टरपंथी सुन्नी समूहों के आत्मघाती हमलों का शिकार होते हैं।   

पाकिस्तान में मध्यम वर्ग और गरीब शियाओं के बीच विमुखता की इस भावना का उपयोग ईरान कर रहा है। ईरान खुद को शियाओं का एकमात्र संरक्षक बताता है। आईएसआईएस के आने से ईरान ने शिया लड़ाकों का इस्तेमाल करने के लिए मध्य पूर्व के कई देशों में एक पैर जमाने के लिए अनुमति दी है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि सीरिया और इराक में आईएसएस लगातार खत्म हो रहा है और इन आतंकवादियों या प्रॉक्सी सेनाओं का इस्तेमाल ईरान द्वारा पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अपनी भू-राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं को आगे बढ़ाने के लिए किया जाएगा।

पाकिस्तानी सीओएएस जनरल कमार बाजवा ने हाल ही में जब ईरान का दौरा किया तो उन्होंने इस मुद्दे को ईरान के नेताओं के साथ कोई बात नहीं की। हालांकि, यदि मध्य पूर्व में ईरान की सक्रिय नीति कोई संकेत है, तो पाकिस्तान को इसकी पश्चिमी सीमाओं में ईरान के प्रशिक्षित शिया प्रॉक्सी से निपटना होगा। 

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com