Monday , November 29 2021

ये टेक्नोलॉजी बदल देगी दुनिया का नक्शा

तेजी से बढ़ती टेक्नोलॉजी का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि एलन मस्क जैसे बिज़नेस मैन आपके दिमाग में चिप लगाने जैसे प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं. वहीं, कुछ आंत्रप्रेन्योर हवा में कार उड़ाने जैसे प्रोजेक्ट पर भी तेजी से आगे बढ़ रहे है.

तेजी से बढ़ती टेक्नोलॉजी का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि एलन मस्क जैसे बिज़नेस मैन आपके दिमाग में चिप लगाने जैसे प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं. वहीं, कुछ आंत्रप्रेन्योर हवा में कार उड़ाने जैसे प्रोजेक्ट पर भी तेजी से आगे बढ़ रहे है. वहीं गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट की चीफ एग्जिक्यूटिव लैरी पेज किटी हॉक के साथ पार्टनरशिप में बनी हुई है.आपको बता दें कि किटी हॉक एक स्टार्टअप है, जो कि फ्लाइंग कार के प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है. इसके अलावा, जॉबी एविएशन, उबर और एयरबस भी ऐसा व्हीकल बनाने की होड़ में लगे हुए है. उड़ने वाली कारों के मार्केट में आने के बाद ट्रेफिक में काफी सुधार हो जायेगा.  आज हम आपको ऐसी टेक्नोलॉजी के बारे में बताने जा रहे है. क्वांटम कंप्यूटर आज के कंप्यूटर्स के मुकाबले काफी अधिक पावरफुल होगा. क्वांटम कंप्यूटर चुटकियों में इनक्रिप्शन को क्रैक करने में सक्षम होगा. आपको बता दें कि इनक्रिप्शन दुनिया के सबसे प्राइवेट डेटा को प्रोटेक्ट करता है. हालांकि, ऐसी मशीन्स को बनाना इतना आसान नहीं है, लेकिन इन प्रोजेक्ट्स पर काफी तेजी से काम चल रहा है.  Google, IBM और इंटेल जैसी कंपनियां क्वांटम कंप्यूटर बनाने में जुटी हुई है. वहीं, रिगेटी कंप्यूटिंग जैसे स्टार्टअप भी इस पर तेजी से काम कर रहे हैं. वहीं रिसर्चर्स का मानना है कि क्वांटम मशीन ड्रग डिस्कवरी, फाइनेंशियल मार्केट्स से जुडी समस्याओं को सॉल्व करने में तेजी ला सकती हैं.

वहीं गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट की चीफ एग्जिक्यूटिव लैरी पेज किटी हॉक के साथ पार्टनरशिप में बनी हुई है.आपको बता दें कि किटी हॉक एक स्टार्टअप है, जो कि फ्लाइंग कार के प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है. इसके अलावा, जॉबी एविएशन, उबर और एयरबस भी ऐसा व्हीकल बनाने की होड़ में लगे हुए है. उड़ने वाली कारों के मार्केट में आने के बाद ट्रेफिक में काफी सुधार हो जायेगा.

आज हम आपको ऐसी टेक्नोलॉजी के बारे में बताने जा रहे है. क्वांटम कंप्यूटर आज के कंप्यूटर्स के मुकाबले काफी अधिक पावरफुल होगा. क्वांटम कंप्यूटर चुटकियों में इनक्रिप्शन को क्रैक करने में सक्षम होगा. आपको बता दें कि इनक्रिप्शन दुनिया के सबसे प्राइवेट डेटा को प्रोटेक्ट करता है. हालांकि, ऐसी मशीन्स को बनाना इतना आसान नहीं है, लेकिन इन प्रोजेक्ट्स पर काफी तेजी से काम चल रहा है.

Google, IBM और इंटेल जैसी कंपनियां क्वांटम कंप्यूटर बनाने में जुटी हुई है. वहीं, रिगेटी कंप्यूटिंग जैसे स्टार्टअप भी इस पर तेजी से काम कर रहे हैं. वहीं रिसर्चर्स का मानना है कि क्वांटम मशीन ड्रग डिस्कवरी, फाइनेंशियल मार्केट्स से जुडी समस्याओं को सॉल्व करने में तेजी ला सकती हैं.

Loading...

Join us at Facebook