Tuesday , November 24 2020

उत्तर कोरिया से रिहा हुए तीन अमेरिकी, एयरपोर्ट पर लेने पहुंचे ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच होने वाली बहुप्रतीक्षित शिखर वार्ता से पहले दोनों देशों के संबंधों में सुधार दिखने लगे हैं। उत्तर कोरिया ने एक महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए तीन अमेरिकी नागरिकों को रिहा कर दिया है। रिहा हुए इन अमेरिकी नागरिकों को लेने के लिए खुद राष्ट्रपति ट्रंप एयरपोर्ट पर पहुंचे।अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच होने वाली बहुप्रतीक्षित शिखर वार्ता से पहले दोनों देशों के संबंधों में सुधार दिखने लगे हैं। उत्तर कोरिया ने एक महत्वपूर्ण फैसला लेते हुए तीन अमेरिकी नागरिकों को रिहा कर दिया है। रिहा हुए इन अमेरिकी नागरिकों को लेने के लिए खुद राष्ट्रपति ट्रंप एयरपोर्ट पर पहुंचे।  यह तीनों अमेरिकी नागरिक सालभर से ज्यादा समय से उत्तर कोरिया में कैद थे। राष्ट्रपति ट्रंप ने बुधवार को बताया कि विदेश मंत्री माइक पोंपियो तीनों लोगों को लेकर वाशिंगटन लौट रहे हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि एंड्रूज एयर फोर्स बेस पर तीनों अमेरिकी नागरिकों का स्वागत वे खुद करेंगे। हाल के दिनों में उत्तर कोरिया छोटे-मोटे अपराधों में अमेरिकी नागरिकों को गिरफ्तार करता रहा है। किसी बड़े अमेरिकी अधिकारी की यात्रा के बाद ही वह उन लोगों को रिहा करता है।  इस बीच, शिखर वार्ता को लेकर कूटनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। विदेश मंत्री पोंपियो बुधवार को अघोषित दौरे पर उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग पहुंचे। उन्होंने उत्तर कोरिया के अधिकारियों के साथ जून में संभावित शिखर वार्ता की रूपरेखा पर चर्चा की। किम ने भी एक दिन पहले चीन का अघोषित दौरा किया था और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से वार्ता की थी।  बतौर अमेरिकी विदेश मंत्री पोंपियो का यह पहला उत्तर कोरिया का दौरा था। उन्होंने कुछ हफ्ते पहले भी वहां का दौरा किया था, लेकिन तब वह सीआइए के निदेशक थे। पोंपियो ने 27 अप्रैल को अमेरिका के 70वें विदेश मंत्री के रूप में पदभार संभाला था। किम से मुलाकात को लेकर ट्रंप भी उत्साहित हैं। उन्होंने टेलीविजन संबोधन में कहा, "योजना और संबंध बनाए जा रहे हैं। उम्मीद है कि चीन, दक्षिण कोरिया और जापान की मदद से कोई समझौता हो जाएगा"  पिछले साल परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षणों के चलते उत्तर कोरिया और अमेरिका में तनाव काफी बढ़ गया था। लेकिन इस साल फरवरी में हुए विंटर ओलंपिक से उत्तर कोरिया के रुख में काफी बदलाव आया है। इसी का नतीजा है कि बीते 27 अप्रैल को किम और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के बीच ऐतिहासिक शिखर वार्ता हुई थी। इसे कोरियाई प्रायद्वीप में शांति के नए दौर की शुरुआत माना जा रहा है।

यह तीनों अमेरिकी नागरिक सालभर से ज्यादा समय से उत्तर कोरिया में कैद थे। राष्ट्रपति ट्रंप ने बुधवार को बताया कि विदेश मंत्री माइक पोंपियो तीनों लोगों को लेकर वाशिंगटन लौट रहे हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि एंड्रूज एयर फोर्स बेस पर तीनों अमेरिकी नागरिकों का स्वागत वे खुद करेंगे। हाल के दिनों में उत्तर कोरिया छोटे-मोटे अपराधों में अमेरिकी नागरिकों को गिरफ्तार करता रहा है। किसी बड़े अमेरिकी अधिकारी की यात्रा के बाद ही वह उन लोगों को रिहा करता है।

इस बीच, शिखर वार्ता को लेकर कूटनीतिक गतिविधियां तेज हो गई हैं। विदेश मंत्री पोंपियो बुधवार को अघोषित दौरे पर उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग पहुंचे। उन्होंने उत्तर कोरिया के अधिकारियों के साथ जून में संभावित शिखर वार्ता की रूपरेखा पर चर्चा की। किम ने भी एक दिन पहले चीन का अघोषित दौरा किया था और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग से वार्ता की थी।

बतौर अमेरिकी विदेश मंत्री पोंपियो का यह पहला उत्तर कोरिया का दौरा था। उन्होंने कुछ हफ्ते पहले भी वहां का दौरा किया था, लेकिन तब वह सीआइए के निदेशक थे। पोंपियो ने 27 अप्रैल को अमेरिका के 70वें विदेश मंत्री के रूप में पदभार संभाला था। किम से मुलाकात को लेकर ट्रंप भी उत्साहित हैं। उन्होंने टेलीविजन संबोधन में कहा, “योजना और संबंध बनाए जा रहे हैं। उम्मीद है कि चीन, दक्षिण कोरिया और जापान की मदद से कोई समझौता हो जाएगा”

पिछले साल परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षणों के चलते उत्तर कोरिया और अमेरिका में तनाव काफी बढ़ गया था। लेकिन इस साल फरवरी में हुए विंटर ओलंपिक से उत्तर कोरिया के रुख में काफी बदलाव आया है। इसी का नतीजा है कि बीते 27 अप्रैल को किम और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के बीच ऐतिहासिक शिखर वार्ता हुई थी। इसे कोरियाई प्रायद्वीप में शांति के नए दौर की शुरुआत माना जा रहा है।

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com