इंडिया ओपन में भारत के आठ मुक्केबाजों ने जीते स्वर्ण

नई दिल्ली। पांच बार की विश्व चैम्पियन भारत की एमसी मैरीकॉम सहित भारत के आठ मुक्केबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए यहां जारी स्पाइसजेट इंडिया ओपन अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी टूर्नामेंट में गुरुवार को स्वर्ण पदक जीत लिये। 

यहां त्यागराज स्टेडियम में खेले गए इस टूर्नामेंट के फाइनल में मैरीकॉम के अलावा संजीत, मनीष कौशिक, पव्लीओ बासुमात्री, लोवलिना बोगोहेन, भपकी, मनीषा और अमित ने स्वर्ण पदक अपने नाम किए। उज्बेकिस्तान और क्यूबा ने मिडिल और हेवीवेट केटगरी में अपने जलवा दिखाते हुए क्रमश: पांच और चार स्वर्ण पदक अपने नाम किए। 

पांच बार की विश्व चैंपियन मैरीकॉम ने लाइटफ्लाई वर्ग के फाइनल में फीलिभपस की जोसी गाबुका को 4-1 से हराकर स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने मुकाबले की शुरुआत सावधानी से की और अपने दमदार पंचों तथा उर्जा को फाइनल राउंड तक के लिए बचा कर रखा। गाबुको को मात देने के लिए उन्होंने अपने अनुभव का बखूबी इस्तेमाल किया। 

भारत के 18 मुक्केबाज 18 कार्ड-फाइनल में खेल रहे थे। असम की पेलाओ और लवलिना ने इस टूर्नामेंट में साबित किया है कि वह आने वाले दिनों की स्टार हैं। पेलाओ ने थाईलैंड की सुडापोर्न सीसोंडी को लाइट वेल्टर केटगरी में 3-2 से मात दी। वहीं लवलिना ने वेल्टर केटगरी में पूजा को आसानी से हराया।  

भारत को हालांकि लाइट वेट केटगरी में अप्रत्याशित हार का सामना करना पड़ा। इस वर्ग में भारत की सरिता देवी को फिनलैंड की मारजुटा मीर पोटकोनान ने मात दी। 

 
Loading...